मई माह में पंचनद अध्ययन केन्द्रों द्वारा 14 सफल गोष्ठियों का आयोजन किया गया

कोरोना महामारी के कारण पूरा भारतवर्ष मार्च माह में ही लॉकडाउन हो गया था। कोरना संक्रमितों की लगातार बढती हुई संख्या को देखते हुए सरकार द्वारा लॉकडाउन की समयसीमा को लगातार बढाया गया। लॉकडाउन के बीच भी पंचनद शोध संस्थान ने गत मई माह में सामाजिक संवाद को बनाए रखा, और सरकार द्वारा जारी किए…

पंचनद शोध संस्थान दिल्ली प्रांत द्वारा कार्यकर्ता बैठक

पंचनद शोध संस्थान, दिल्ली प्रांत की प्रांत कार्यकर्ता बैठक दिनांक 17 मई 2020 को सायं 5:00 बजे ऑनलाइन माध्यम से हुई। बैठक में पंचनद शोध संस्थान के माननीय अध्यक्ष डॉ.कृष्ण सिंह आर्य एवं निदेशक प्रो. बृज किशोर  कुठियाला जी का मार्ग निर्देशन कार्यकर्ताओं को प्राप्त हुआ। बैठक आरम्भ करते हुए दिल्ली प्रांत  समन्वयक डॉ. अजय…

आर्यों का मूल स्थान

डा. शालिनी अग्रवाल, वैश्य कॉलेज, रोहतक : ‘आर्य’ शब्द संस्कृत भाषा का शब्द है, जिसका सबसे प्रचलित अर्थ ‘श्रेष्ठजन’ है| आदर्श, अच्छे ह्रदय वाला, अच्छे गुणों वाला, आदरणीय, सम्माननीय, उत्तम आदि शब्द इसके पर्याय-स्वरूप प्रयुक्त होते हैं|१ ‘आर्यवर्त’(उत्तर-भारत)का वह क्षेत्र था, जहाँ आर्यों ने वैदिक धर्म संस्कृति को संपुष्ट किया| आर्यों का मूलस्थान, आदि-देश क्या…

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कठोर फैसले लेने की प्रवृत्ति ने देश को सुदृढ़ बनाया : पूर्व न्यायाधीश शायाम लाल जांगड़ा

कुरुक्षेत्र,4 जनवरी 2020 : नागरिक संशोधन अधिनियम भारत के किसी नागरिक के खिलाफ नही है। यह कहना है पूर्व न्यायाधीश शायाम लाल जांगड़ा का  og , कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के बी.एड. कॉलेज में  पंचनद शोध संस्थान द्वारा आयोजित  गोष्ठि में बतौर मुख्यवक्ता के रूप मे बोल रहे थे । देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कठोर…

कश्मीर में अलगाववादियों—आतंकवादी कर रहे हैं भय का वातावरण बनाने की कोशिश : नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्‍ट्स

कश्मीर में अलगाववादियों—आतंकवादी कर रहे हैं भय का वातावरण बनाने की कोशिश चंडीगढ़ 25 सितंबर । चंडीगढ़ प्रेस क्लब में पंचनद शोध संस्थान, चंडीगढ़ द्वारा आयोजित जम्‍मू-कश्‍मीर का नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्‍ट्स (इंडिया) के सदस्यों द्वारा आंखों देखा हाल’ विषय पर आयोजित परिचर्चा में द्वारा जम्‍मू-कश्‍मीर में अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी होने के बाद से कुछ पत्रकारों…

प्रकृति को दोहन करें, लेकिन शोषण मत करें: मुरली मनोहर जोशी

चंडीगढ़ ,22 सितंबर। पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डा. मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि प्रकृति को दोहन करें, लेकिन शोषण मत करें। प्रकृति और मनुष्य का रिश्ता मॉ-बेटे जैसा है, इसलिए जितनी जरूरत है प्रकृति से उतना ही लें, संतुलित व्यवहार रखना चाहिए।डा. मुरली मनोहर जोशी रविवार को पंचनद शोध संस्थान व  पंजाब…

पंचनद शोध संस्थान के व्याख्यान माला में पहुंचे डा. मुरली मनोहर जोशी

चंडीगढ़, 21 सितंबर : पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डा. मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि आज देश की नदियों की हालत बहुत दयनीय है, गंगा नदी तो कानपुर में पहचान में नहीं आती, यही हाल कावेरी और गोदावरी का है। इसलिए गंगा और कावेरी को आपस में जोडऩे से भी क्या लाभ होगा,…

श्री गुरु गोविंद सिंह जी की शिक्षाओं का वर्तमान में परिपेक्ष

10 अगस्त 2019। पंचनद शोध संस्थान अध्ययन केंद्र हिसार द्वारा “श्री गुरु गोविंद सिंह जी की शिक्षाओं का वर्तमान में परिपेक्ष” विषय पर गोष्ठी का आयोजन ब्लूमिंग डेल्स स्कूल सेक्टर 15 हिसार मे किया गया। मुख्य प्रस्तुति इतिहासकार प्रोफेसर महेंद्र सिंह जी, अध्यक्ष इतिहास विभाग दयानंद कॉलेज हिसार द्वारा दी गई। कार्यक्रम अध्यक्ष के रूप…

कश्मीर भारत का दिल है और यह दिल सही मायनों में अब धड़क रहा है : डॉ.प्रदीप चौहान

30 अगस्त 2019 । पंचनद शोध संस्थान, कुरुक्षेत्र अध्ययन केंद्र, द्वारा कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में शुक्रवार को ‘अनुच्छेद 370 के आगे क्या’ विषय पर गोष्ठी आयोजित की गई । इस गोष्ठी के विषय प्रस्तुतकर्ता ‘इंटीग्रेटेड एंड होनर्स स्टडीज’ के अर्थशास्त्र विभाग के अध्यक्ष डॉ.प्रदीप चौहान रहे । उन्होंने विश्विद्यालय के युवाओं को संबोधित करते हुए कहा…

अनुच्छेद 370 हटाने में संघ और जम्मू कश्मीर अध्ययन केन्द्र की भूमिका अहम : रवीन्द्र रायजादा

31 अगस्त 2019 उत्तरी दिल्ली । पंचनद शोध संस्थान, उत्तरी दिल्ली अध्ययन केन्द्र द्वारा “अनुच्छेद 370 और भविष्य का कश्मीर” विषय पर गोष्ठी का आयोजन वरिष्ठ नागरिक मनोरंजन केन्द्र, C-7 केशव पुरम, दिल्ली में किया गया । संगोष्ठी में विषय की प्रस्तुति सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता श्री रवीन्द्र कुमार रायजादा ने की । श्री…