शिक्षा का विकास इस प्रकार होना चाहिए कि उसमें भारतीयत्व प्रकट हो : डॉ. बजरंग लाल गुप्त

चंडीगढ़, 10 जुलाई  : भारत की शिक्षा व्यवस्था इस देश की प्रकृति, संस्कृति, पर्यावरण, परिवेश, परिस्थिति, सवालों, समस्याओं एवं संसाधनों के अनुरूप विकसित होनी चाहिए। यह कहना है देश के जाने-माने अर्थशास्त्री एवं दिल्ली स्थित एसएसएन कालेज के पूर्व प्रोफेसर बजरंग लाल गुप्त का। श्री गुप्त रविवार को यहां पंजाब विश्विद्यालय के गोल्डन जुबली हाल में शिक्षा के समकालीन विषय…

भारत तभी शक्तिशाली बन सकता है जब उसके छोटे-छोटे उद्योग धन्धों को नई प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर विकसित किया जाए : कश्मीरी लाल

कुरुक्षेत्र 11 मई, भारत को आर्थिक रूप से समृद्ध और सशक्त बनाने में स्वदेशी का महत्वपूर्ण योगदान है। भारत तभी शक्तिशाली बन सकता है जब उसके छोटे-छोटे उद्योग धन्धों को विकसित करके नई प्रौद्योगिकी का प्रयोग किया जाए। यह कहना है स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय संगठक कश्मीरी लाल का। वह आज कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के…

व्यक्ति की पहचान राष्ट्र के नाम से होनी चाहिए : प्रो. बी.के. कुठियाला

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रो. बी.के. कुठियाला ने कहा है कि भारत में आर्थिक असमानता समरसता के अभाव का बड़ा कारण है।  जब तक व्यक्ति की पहचान जाति, रंग, धर्म व व्यवसाय के आधार पर होती रहेगी तब तक समरसता के भाव के लक्ष्य को पाना संभव नहीं होगा। …

हरियाणा के जनमानस से पंचनद शोध संस्थान की अपील

हरियाणा में पिछले कुछ दिनों में हुए घटनाक्रम से पंचनद शोध संस्थान के सभी कार्यकर्ता दुःखी, क्षुब्ध, क्रोधित एवं निराष हुए हैं। हरियाणा प्रान्त का समाज आपसी सौहार्द्य एवं सहयोग के लिए जाना जाता है परन्तु आरक्षण संबंधित आन्दोलन से इस सच्चाई को तोड़ने का प्रयास हुआ है। यह असहनीय है। हम सबको समझना चाहिए…

संवाद का स्वराज विषय पर पंचनद शोध संस्थान दिल्ली द्वारा गाोष्ठी का सफल आयोजन

पंचनद शोध संस्थान दिल्ली द्वारा 14.01.2016 प्रगति मैदान में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी का विषय था ‘संवाद का स्वराज‘। गाोष्ठी में प्रमुख वक्ताओं में श्री तरण विजय, श्री बजरंग मुनि तथा श्रीमति मधु किश्वर रहे। श्री तरुण विजय के भारत में संवाद भी प्राचीन परमपराओं का उल्लेख किया किस प्रकार भारत की…

Integral humanism must in polity and education : Kohli

Chandigarh: Gujarat Governor OP Kohli on Sunday stressed the need to develop integral humanistic approach in polity and education system for a balanced and inclusive growth of the society. Delivering the 25th keynote address of the Panchnad Research Institute on ” Integral Humanism,”  here he said the Indian civilisation and thought had always been unifyingly…

व्यक्ति में राष्ट्रभाव मजबूत होगा तो देश अपने आप मजबूत हो जाएगा : प्रो. कोहली

चंडीगढ़। गुजरात के राज्यपाल प्रो. ओमप्रकाश कोहली ने कहा कि यदि व्यक्ति में राष्ट्रभाव मजबूत होगा तो देश स्वत: मजबूत हो जाएगा, यह भावना लोगों में अवश्य होनी चाहिए। जब यह भाव जनता में आएगा तो वह एकात्म मानव दर्शन की ओर उसका बढ़ता हुआ एक कदम होगा। प्रो. कोहली रविवार को चंडीगढ़ के सेक्टर…

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की समाप्ती के बाद अंग्रेजो ने एक रणनीती के अन्तर्गत हिन्दु समाज को निरन्तर कमजोर करने का षडयंत्र रचा : शान्त प्रकाश जाटव

वैशाली : पंचनद शोध सस्थान के वैशाली अध्ययन केन्द्र द्वारा आयोजित विचार गोष्ठी  इन्द्रप्रस्थ इन्जी०कालेज मे आयोजित की गयी । प्रसिद्ध दलित चिन्तक व अनुसूचित जाति जनजाती के प्रखर प्रवक्ता श्री  शान्त प्रकाश जाटव जी का  अध्ययन व  निष्कर्ष कि किस प्रकाश प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की समाप्ती के बाद अंग्रेजो ने एक रणनीती के अन्तर्गत…