पंचनद शोध संस्थान – परिचय

सत्य की अनन्त खोज

Read in English
अनादि काल से समाज व राष्ट्र के जीवन के सत्यों की समस्त अभिव्यक्तियों की आर्जब एवं अनंत खोज भारत की सर्वाधिक महत्वपूर्ण सांस्कृतिक परंपरा रही है। किसी भी विचार, सिद्धांत या संकल्पना को स्वीकारने से पूर्व तीक्ष्ण एवं संपूर्ण विवेचना करना हमारे बुद्धिजीवी विद्वानों का स्वभाव रहा है। उत्सुक एवं जिज्ञासु अर्जुन ने भगवान कृष्ण से 108 प्रश्न पूछे जिसके परिणामस्वरूप मानव को ज्ञान का सर्वश्रेष्ठ ग्रंथ ‘गीता’ प्राप्त हुई। गौतम और गार्गी, विश्वामित्र और वशिष्ठ, कर्ण और कपिल, याज्ञवल्कय एवं पतंजलि, महावीर और बुद्ध, शंकर और रामानुजाचार्य, नानक, कबीर, दादु, दयानंद, रमन, रामकृष्ण, रामतीर्थ और विवेकानंद जैसे महान विचारकों ने सत्य की खोज की इसी परंपरा को आगे बढ़ाया जिसके कारण से विश्व में भारत का एक वैशिष्ट्य बना और सांस्कृतिक एकात्मता और राष्ट्र के प्रति के गौरव का भाव उत्पन्न हुआ।
किसी भी क्रियाशील समाज में राष्ट्र को विकास एवं गौरव के पथप्रदर्शन के लिए बुद्धिजीवियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वे केवल नवाचारों के प्रणेता नहीं होते परंतु उनका कार्य राष्ट्र की धरोहर और आधुनिक आवश्यकताओं को एकात्म करने का और वर्तमान की समस्याओं के निवारण का भी होता है। दुर्भाग्यवश कुछ समय के लिए हमारा बुद्धिजीवी वर्ग न केवल मृतप्राय हो गया है परंतु उसे दिशाभ्रम भी हुआ है। हमारा प्रबुद्ध वर्ग विदेशी विचारों और सुझावों को स्वीकार करने के लिए बिना प्रयास के तत्पर है। ऐसे अनेक बुद्धिजीवी हैं जो स्वभाव से ही भारतीय अवधारणाओं, मूल्यों, परंपराओं, जीवन शैलियों और यहाँ तक कि भारतीय उत्पादों का भी तिरस्कार करते हैं। इसी बीच सामाजिक, आर्थिक एवं व्यवस्था की समस्याओं के कारण से राष्ट्र की एकता एवं सामाजिक समरसता संकटग्रस्त हो गई है। इसलिए अनिवार्य हो गया है कि बौद्धिक स्तर पर इन समस्याओं का उचित समाधान खोजा जाए- ऐसे समाधान जो देश की चिति एवं आवश्यकताओं के अनुरूप हों।
बुद्धिजीवी वर्ग में यह क्षमता है कि वे जनमानस को राष्ट्रीय एकता, सार्वभौमिकता और सामाजिक समरसता का विघटन करने वाली शक्तियों के विरोध में खड़ा कर सकें। वैश्वीकरण के नाम पर आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों में जो अवांछनीय प्रयास हो रहे हैं उनसे जूझने के लिए इसके वर्ग बौद्धिक नेतृत्व प्रदान करना है।

For more detail click here Panchanad Parichay Satya ki anant khoj

An honest and tireless pursuit of truth in all its manifestations and all fields of social and national life has been the most valued cultural tradition of India since times immemorial. Questioning incisively and thoroughly every postulate, creed or idea before accepting and adopting it has been the main attribute of our intellectual ethos.

It was no fewer than 108 questions of an inquisitive, eager and doubting Arjuna to Lord Krishna that gifted the humanity with Gita, the greatest book of knowledge. A vast galaxy of great thinkers like Gautam and Gargi, Vishwamitra and Vasishtha, Kanva and Kapila, Yagyavalkya and Patanjali, Mahavir and Buddha, Shankar and Ramanuja, Nanak, Kabir, Dadu, Dayanand, Raman, Ramkrishna and Ram Tirtha, carried forward this great tradition and gave India her distinctive identity, and innate sense of civilizational oneness and pride of nationhood.

Intellectuals play a vital role in leading the country to progress and glory in all vibrant societies. They are not only the harbingers of new thoughts but also help integrate the best in a nation’s heritage with modern needs and find apt solutions to contemporary problems.

Unfortunately, for quite some time now, our creative intellect has not only become moribund but also lost its direction. Our intelligentsia is ever willing to accept alien ideas and solutions without demur. Many have made it a habit to scoff at any thing Bhartiya – values, heritage, way of life and even products. Meanwhile sociological, economic and systemic problems threaten to disrupt our national integrity and social fabric. It is imperative to find proper solutions to these problems at the intellectual level – solutions that are in consonance with the country’s genius and needs. The intelligentsia can prepare and galvanize the people to face tendencies and forces that threaten our national unity, territorial integrity and social harmony. It can throw up ideas to fight undesirable foreign influences and onslaughts being made in the economic, political and cultural fields in the name of globalization and universalism.

It was against this backdrop that a select group of enlightened intellectuals and professionals from Punjab, Haryana, Himachal, Chandigarh and Delhi held deliberations in several meetings during the year 1983. The group discussed at length the desirability of setting up a platform for a constructive dialogue among various sections of the society. A consensus emerged on the aims, objects and the methodology of the proposed organization that led to the formation of Panchnad Research Institute as a non-profit non-government body dedicated to the service of the motherland that was registered with the Registrar of Societies, Chandigarh. Justice T.U. Mehta, a former Chief Justice of the Himachal High Court and Shri Shyam Khosla, a senior journalist, were elected its first Chairman and Director respectively. Panchnad has since emerged as a leading forum in the North-West region comprising Delhi, Haryana, Punjab, J&K, Himachal and Chandigarh for free exchange of views and ideas of all hues and persuasions.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *